23.1 C
Chandigarh
Sunday, February 25, 2024

चुनाव आयोग: ‘वादे कैसे पूरे होंगे, राजनीतिक दलों को ये भी बताना होगा

चुनाव के दौरान राजनीतिक दलों की तरफ से ‘मुफ्त की रेवड़ियों’ यानी वादों को लेकर पहले से बहस छिड़ी हुई है। सुप्रीम कोर्ट में भी यह मामला चल रहा है। इस बीच, चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों को लेटर लिखा है कि सिर्फ वादों से काम नहीं चलेगा, ये भी बताना होगा कि वे पूरा कैसे होंगे, उसके लिए पैसे कहां से आएंगे। आयोग ने पार्टियों से 19 अक्टूबर तक इस पर अपनी राय देने को कहा है।

चुनाव आयोग ने 4 अक्टूबर को सभी मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों को एक लेटर लिखा है। इसमें कहा गया है कि राजनीतिक दल अगर कोई चुनावी वादा करते हैं तो उन्हें साथ में यह भी बताना होगा कि अगर वह सत्ता में आते हैं तो वादे को कैसे पूरा करेंगे। इस पर कितना खर्च आएगा? पैसे कहां से आएंगे? इसके लिए वे टैक्स बढ़ाएंगे या नॉन-टैक्स रेवेन्यू को बढ़ाएंगे, स्कीम के लिए अतिरिक्त कर्ज लेंगे या कोई और तरीका अपनाएंगे? चुनाव घोषणा पत्र में एक तयशुदा प्रोफॉर्मा होगा जिसमें पार्टियों के चुनावी वादें तो होंगे ही, साथ में वे कैसे पूरे होंगे, इसका भी डीटेल देना होगा। पार्टियों को बताना होगा की राज्य की वित्तीय सेहत को देखते हुए उन वादों को कैसे पूरा किया जाएगा।

चुनाव आयोग का कहना है कि इस तरह की सूचनाएं होने से वोटर राजनीतिक दलों के वादों की तुलना करके सही फैसला कर सकता है। इसे अनिवार्य बनाने के लिए आयोग आदर्श आचार संहिता (Model Code of Conduct) में जरूरी बदलाव की योजना बना रहा है। आयोग ने 19 अक्टूबर तक इस पर राजनीतिक दलों से सुझाव मांगे हैं। उसने लेटर में कहा है कि मैनिफेस्टो तैयार करना राजनीतिक दलों का अधिकार है लेकिन वह कुछ वैसे वादों को नजरअंदाज नहीं कर सकता जिनका ‘स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव’ प्रक्रिया पर नकारात्मक असर पड़ सकता है। आयोग ने कहा है कि सिर्फ वैसे चुनावी वादें किए जाने चाहिए जिनको पूरा करना मुमकिन हो। यही वजह है कि ईसी ने अब सख्त रुख अख्तियार किया है। दरअसल, मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार की अध्यक्षता में आयोग की एक मीटिंग हुई थी। इसमें चुनाव आयुक्त अनूप चन्द्र पाण्डेय भी शामिल हुए थे। इसमें तय हुआ कि चुनावी वादों को लेकर आयोग महज मूकदर्शक नहीं बना रह सकता।

- Advertisement -

Latest Articles

कांग्रेस और आप में लोकसभा चुनाव के लिए हुआ समझौता

चंडीगढ़: लोकसभा चुनावों को लेकर आज कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का हरियाणा में समझौता हो गया है। तय हुआ है कि कांग्रेस नौ...

मुख्यमंत्री ने पेश किया लोकलुभावन बजट

चंडीगढ़: हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने अपने दूसरे कार्यकाल का अंतिम बजट आज पेश किया। बजट 1.89 लाख करोड़ का है।इन जिलों में...

हरियाणा विधानसभा का बजट सत्र मंगलवार से शुरू हुआ

चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा का बजट सत्र मंगलवार से स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता की अध्यक्षता में शुरू हो गया। राज्य में नए साल २०२४ का पहला...

मुख्यमंत्री ने विजि़ट किया वो एरिया जहां झुग्गीवासी परिवारों को देने हैं प्लाट

पंचकूला। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को राजीव-इंदिरा कालोनी व खड़क मंगोली के उस एरिया का मुआयना किया जहां एचएसवीपी द्वारा स्लम फ्री पंचकूला...

हरियाणा की राज्यसभा सीट के लिए भाजपा के सुभाष बराला ने नामांकन पत्र दाखिल किया

चंडीगढ़: हरियाणा की राज्यसभा सीट के लिए भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने वीरवार को नामांकन पत्र दाखिल किया। उनका बिना किसी...

You cannot copy content of this page